Press "Enter" to skip to content

शहीदों के परिजनों को किया गया सम्मानित, कोविड-19 महामारी के दौरान दिखा पुलिस का मानवीय चेहरा : मुख्यमंत्री [Source: Dainik Bhaskar]



राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर जैप में रविवार को अलंकरण दिवस परेड का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने छह शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को 25 हजार रुपए व शॉल देकर सम्मानित किया। सीएम ने कहा कि पुलिस की भूमिका न सिर्फ कठिन है, बल्कि अत्यंत महत्वपूर्ण भी है। शहीदों के परिजनों के साथ झारखंड सरकार हमेशा खड़ी है। किसी भी शहीद के परिजन को अगर कोई समस्या आती है, तो वह उनसे मिल कर अपनी बात रख सकता है।

उन्होंने कहा कि झारखंड पुलिस ने इस वर्ष कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी के दौरान न सिर्फ विधि-व्यवस्था की ड्यूटी निभाई, बल्कि समाज के समक्ष पुलिस का मानवीय चेहरा भी दिखा, जो पूरे राज्य के लिए गर्व की बात है। इस महामारी के दौरान झारखंड पुलिस के प्रयास की जितनी प्रशंसा की जाए, कम है। लॉकडाउन के दौरान आपलोगों ने विभिन्न राज्यों से पैदल वापस आए जरूरतमंदों को उनके घर तक पहुंचाने में न सिर्फ सहयोग देने का कार्य किया, बल्कि राज्य के थानों में सामुदायिक रसोई के माध्यम से जरूरतमंदों को भोजन भी उपलब्ध कराया, जिसे पूरे देश में सराहा गया। कार्यक्रम में गृह सचिव राजीव अरुण एक्का, डीजीपी एमवी राव, डीजी जैप नीरज सिन्हा, एडीजी अनिल पाल्टा सहित अन्य पुलिस पदाधिकारी उपस्थित थे। इस अवसर पर नवनिर्मित अतिथिगृह पलाश का उद्घाटन भी किया गया।

शहीदों के परिजनों के साथ हमेशा खड़ी है सरकार

6 शहीद पुलिसकर्मियों के परिजन सम्मानित

सम्मानित छह शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों में शहीद सअनि सुकरा उरांव की पत्नी नीलमणि देवी, शहीद गृहरक्षक जमुना प्रसाद के पुत्र विक्की कुमार, शहीद गृहरक्षक सतेन्द्र सिंह की पत्नी पद्मिनी देवी, शहीद शंभू प्रसाद सिंह की पत्नी मुनी कुमारी, शहीद आ. लखींद्र मुंडा की पत्नी बालमुनि गागराई और शहीद सअनि. चंद्राई सोरेन की पत्नी सुनीता सोरेन शामिल हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Martyrs’ families honored, human face of police shown during Kovid-19 epidemic: Chief Minister

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: