Press "Enter" to skip to content

लक्ष्मण बोले- सिडनी में अंपायर के गलत फैसले से टेस्ट हारे; हरभजन-साइमंड्स की भिड़ंत की वजह से चर्चित हुआ था टेस्ट [Source: Dainik Bhaskar]



सिडनी क्रिकेट ग्राउंड से टीम इंडिया का नाता बेहद गहरा रहा है। इस साल जहां सिडनी टेस्ट से पहले 5 खिलाड़ियों के कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने को लेकर विवाद हुआ। वहीं, इससे पहले भी कई बार ऐसे ही छोटे-छोटे विवाद जुड़े रहे हैं। भारतीय टीम द्वारा 2008 में किए गए ऑस्ट्रेलियाई दौरे को कौन भूल सकता है।

इस टूर पर मंकीगेट स्कैंडल ने खूब तूल पकड़ा था। पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि 2008 में खराब अंपायरिंग की वजह से टीम इंडिया को सिडनी टेस्ट में हार मिली थी। वहीं, मंकीगेट विवाद के लिए स्पिनर हरभजन सिंह पर 1 मैच का बैन भी लगाया गया था।

सिडनी टेस्ट और मंकीगेट स्कैंडल
स्टार स्पोर्ट्स से बात करते हुए लक्ष्मण ने कहा कि भारत के पास सिडनी टेस्ट को जीतने का मौका था। उन्होंने कहा, ‘मैं इसे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की उद्दंडता नहीं कहूंगा। 2008 में मेलबर्न टेस्ट जीतने के बाद हमारे पास सिडनी में भी जीतने का अच्छा मौका था। मैं जानता हूं सिडनी टेस्ट को मंकीगेट स्कैंडल के लिए जाना जाएगा, लेकिन हम उस टेस्ट को जीत सकते थे।’

अंपायर ने साइमंड्स के 2-3 बार नहीं दिया आउट
लक्ष्मण ने कहा, ‘पहली पारी में हमने ऑस्ट्रेलिया के शुरुआती विकेट आसानी से गिरा दिए। ऑस्ट्रेलियाई टीम अंडर प्रेशर थी। इसके बाद एंड्र्यू साइमंड्स 2 से 3 बार आउट हुए, लेकिन अंपायर ने उन्हें आउट नहीं दिया। मैं यह कभी नहीं भूल सकता जिस प्रकार आरपी सिंह ने साइमंड्स को कैच आउट कराया था।’

स्टीव बकनर और मार्क बेंसन की खराब अंपायरिंग
लक्ष्मण ने कहा, ‘साइमंड्स के बैट में बॉल लगने की आवाज आई थी, जिसे अंपायर स्टीव बकनर और मार्क बेंसन ने नकार दिया। इसका परिणाम यह हुआ कि साइमंड्स ने शतक लगाया। टेस्ट के अंतिम दिन जिस प्रकार सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ को आउट दिया गया, वह दुखद था।’

मामला कंट्रोल से बाहर हो गया था
मंकीगेट विवाद को लेकर लक्ष्मण ने कहा कि यह मामला कंट्रोल के बाहर हो गया था। उन्होंने कहा, ‘एक समय हमने टेस्ट सीरीज बीच में छोड़ने का फैसला कर लिया था। अनिल कुंबले डिप्लोमैट की तरह पेश आ रहे थे। मुझे लगता है कि BCCI ने सही फैसला लिया और सीरीज जारी रखा।’

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 122 रन से हराया था
ऑस्ट्रेलिया ने 2008 में खेले गए इस मैच में भारत को 122 रन से हराया था। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में साइमंड्स के 162 रन की बदौलत 463 रन बनाए। इसके जवाब में भारतीय टीम ने लक्ष्मण और सचिन तेंदुलकर की सेंचुरी की बदौलत पहली पारी में 532 रन बनाए और ऑस्ट्रेलिया पर 69 रन की बढ़त ली।

दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया ने 7 विकेट पर 401 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी। 332 रन के टारगेट का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 210 रन पर ऑलआउट हो गई थी।

हरभजन-साइमंड्स के विवाद ने तूल पकड़ा था
इस टेस्ट में हरभजन सिंह और एंड्रयू साइमंड्स की भिड़ंत भी हुई थी। साइमंड्स ने आरोप लगाया था कि हरभजन ने उन्हें बंदर कहा। यह मामला इतना बढ़ा कि टीम इंडिया दौरे के बहिष्कार के बारे में सोचने लगी थी। सचिन तेंदुलकर ने अपनी आत्मकथा ‘प्लेइंग इट माय वे’ में भी इस विवाद का जिक्र किया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


2008 में सिडनी टेस्ट में हरभजन सिंह और एंड्रयू साइमंड्स की भिड़ंत भी हुई थी। साइमंड्स ने हरभजन पर उन्हें बंदर कहने का आरोप लगाया था।

More from SportsMore posts in Sports »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: