Press "Enter" to skip to content

मुख्य मार्गों में अतिक्रमणकारियों पर चला प्रशासन का डंडा हटाया गया अवैध निर्माण, 11500 रुपए की जुर्माना वसूली [Source: Dainik Bhaskar]



शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने को लेकर जिला प्रशासन के निर्देश पर अतिक्रमणकारियों पर नप प्रशासन का डंडा चला। जिसने पूर्व सूचना के बावजूद अतिक्रमण नहीं हटाया था वहां बलपूर्वक अवैध निर्माण हटाया गया। गुरुवार को अतिक्रमण हटाओ अभियान की सूचना नगर परिषद और अनुमंडल प्रशासन की तरफ से दो सप्ताह पहले ही दे दिया गया था। उसी आलोक में शुरू हुए अभियान की अगुवाई खुद सदर एसडीओ शैलेश चन्द्र दिवाकर व एसडीपीओ पुष्कर कुमार कर रहे थे।
सदर एसडीओ शैलेश चंद्र दिवाकर के नेतृत्व में गुरुवार को शहर के चांदनी चौक, हटिया रोड, ठाकुरबाड़ी रोड के साथ कई और जगहों से अतिक्रमण हटाया गया। दरअसल चांदनी चौक के पास फुटकर दुकानदारों ने सड़क पर ही दुकान लगाना शुरू कर दिया था। यही नहीं कुछ पक्का दुकानदार अपने आगे सड़क पर पैसे लेकर भी दुकान लगवाते हैं। इससे लगातार जाम की समस्या उत्पन्न हो रही थी। साथ ही हटिया रोड से हरियाली मार्केट तक दुकानदारों ने सामने के नाला पर पक्का निर्माण कर रखा था। इससे आवागमन करने वालों को भारी समस्या का सामना करना पड़ता है। इससे लगातार जाम की समस्या हो रही थी। कई बार इस बात को लेकर दुकानदारों को निर्माण हटाने की बात कही गई थी। लेकिन इस पर दुकानदारों ने कोई संज्ञान नहीं लिया। इसलिए जिला प्रशासन बल प्रयोग करते हुए अवैध निर्माण को हटाने का काम किया है। इस क्रम में प्रशासन के लोगों को कई दुकानदारों का आक्रोश भी झेलना पड़ा। मौके पर एसडीपीओ पुष्कर कुमार, नप कार्यपालक पदाधिकारी दीनानाथ सिंह के साथ नगर परिषद कर्मी और दर्जनों पुलिस बल मौजूद थे।

नोटिस के बावजूद नहीं हटा अवैध निर्माण
चांदनी चौक से पनार नदी तक मास्टर नाला निर्माण हो रहा है। ठीक इसके विपरीत नवनिर्मित नाला पर दुकानदारों ने अवैध पक्का निर्माण करना शुरू कर दिया है। इस खबर को दैनिक भास्कर ने लगातार प्रमुखता से छापने का काम किया है। नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी दीनानाथ सिंह ने इस पर संज्ञान लेकर उन आठ दुकानदारों को निर्माण हटाने का नोटिस भी किया था। दुकानदारों को 24 घंटे के अंदर अवैध निर्माण हटाने का आदेश दिया गया था। मंगलवार की शाम को दिए गए नोटिस की मियांद बुधवार की शाम ही समाप्त हो गई है। इसके बावजूद नाला के ऊपर से दुकानदारों ने अवैध निर्माण को नहीं हटाया है। जबकि नगर परिषद ने इस पर नगरपालिका अधिनियम 2007 के तहत कार्रवाई की बात कही थी। बताया जाता है कि चांदनी चौक से काली मंदिर वाले नाले पर से दो तीन दुकानदारों ने तो दीवाल तोड़कर हटा लिया। लेकिन कुछ दुकानदार निडर होकर नोटिस मिलने के बावजूद अबतक अवैध निर्माण को नहीं हटाकर नप प्रशासन को खुली चुनौती दे रहे हैं।

अतिक्रमण से संक्रमण फैलने की आशंका
सदर एसडीओ शैलेश चंद्र दिवाकर ने बताया कि सड़क किनारे अतिक्रमण करने से संक्रमण का खतरा भी बढ़ने की आशंका बनी रहती है। इसलिए भी इसे हटाना जरूरी हो गया है। उन्होंने ने बताया कि इस मामले को लेकर नगर परिषद ने 14 दिन पहले सभी को नोटिस भी किया था। कई अतिक्रमणकारियों से 11500 रुपये का जुर्माना भी वसूला गया है। यह जुर्माना इसलिए वसूला गया कि उनका ढांचा नप कर्मियों ने हटाया।

अतिक्रमण हटाने के 2 घंटे बाद ही सज गईं दुकानें
जिला प्रशासन व नगर परिषद ने संयुक्त रूप से गुरुवार को शहर के चांदनी चौक, हटिया रोड व ठाकुरबाड़ी रोड में सड़क व नाले पर अवैध रूप से सब्जी दुकानदार, फल दुकानदार व अन्य दुकानदार को हटवाया। लेकिन अतिक्रमण हटाने के 2 घंटे बाद ही फिर से सड़क पर फल व सब्जी दुकानदार अपना अपना दुकान सजा कर सड़क को अतिक्रमण कर लिया। बस यूं कहें कि अतिक्रमणकारियों में प्रशासन का कोई खौफ नहीं है। किराना दुकानदार व अन्य दुकानदारों ने भी अपने दुकान के सामग्री को सड़क पर लगाकर अतिक्रमण कर लिया।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


अररिया के मुख्य मार्गों से गुरुवार को अतिक्रमण हटाते नप कर्मी।

More from बिहार समाचारMore posts in बिहार समाचार »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: