Press "Enter" to skip to content

बड़े भाई ने सऊदी अरब से छोटे के लिए भेजा गिफ्ट, पुलिस ने खोलकर देखा तो 10 लाख रुपए के नोट थे, 9 असली नाेट स्कैन करके बनाए





दादिया पुलिस ने 10 लाख के नकली नोटों के साथ झुंझुनूं के 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें एक जीजा-साला है। तीसरा आरोपी आपस में रिश्तेदार हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि 10 लाख रुपए के नोट सऊदी अरब से लाए गए थे। फ्लाइट से लेकर एयरपोर्ट तक किसी ने जांच नहीं की।
पुलिस को एक अज्ञात मोबाइल नंबर से फोन आया कि सऊदी अरब से नकली नोट लाए गए हैं। ये सीकर से होते हुए झुंझुनूं जा रहे हैं। झुंझुनूं नंबर की एक गाड़ी में यह नोट ले जाए जा रहे हैं। एएसपी देवेंद्र शर्मा ने बताया कि दादिया पुलिस ने बोलेराे कार आरजे 18यूए 8724 रोकी तो इसमें तीन लोग बैठे थे। गाड़ी में बैठे असलम के पास एक थैले में एक कागज की थैली रखी हुई थी। इसमें 2000 के 100 नोटों की पांच गडि्डयां और एक 2000 रुपए का नोट था। जांच की तो यह सभी नोट नकली मिले। पुलिस ने असलम पुत्र साजिद खान 32 साल निवासी टाई बिसाऊ, रफीक पुत्र हाकम अली 40 साल निवासी मंडावा व रफीक पुत्र आमीन खान 40 साल निवासी टांई बिसाऊ को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि जिस नंबर से फोन आया था, उसे बाद में बंद कर लिया गया।
सऊदी में रहने वाले भाई ने भेजे थे रुपए, सीकर से लेकर टाई-बिसाऊ जा रहा था असलम : दादिया थानाधिकारी बृजेश सिंह ने बताया कि नोटों के बारे में असलम से पूछा तो उसने बताया कि उसका भाई रियाज खान सऊदी अरब में रहता है। उसने गिफ्ट हैंपर भेजा था, जिनको लेने वह सीकर गया था। पुलिस ने बताया कि एक व्यक्ति ने असलम को सीकर में ये रुपए दिए थे, जिनको लेकर वह टाई-बिसाऊ स्थित घर जा रहा था। तब दादिया थाने के सामने नाकाबंदी में पुलिस ने पकड़ लिया।

जांच के लिए झुंझुनूं व जयपुर टीमें भेजी, वाट्सएप कॉलिंग की भी होगी जांच

  • पुलिस महानिरीक्षक जयपुर रेंज एस सेंगाथिर ने बताया कि नकली नोटों का बड़ा गिरोह हो सकता है। खुलासे के लिए झुंझुनूं व जयपुर भी टीमें भेजी गई है।
  • जिस बोलेरो कार में यह नोट ले जाए जा रहे हैं, वह अन्य किसी व्यक्ति के नाम पर है। इसकी जांच भी पुलिस करेगी।
  • पुलिस गिरफ्तार आरोपियों के मोबाइल की जांच भी करेगी। प्रारंभिक जांच में पता चला कि बातचीत के लिए वाट्सएप कॉलिंग का सहारा लिया जा रहा था। इनकी जांच भी होगी।
  • एसपी डॉ. गगनदीप सिंगला ने बताया कि सभी 2000 के नोट देखने में असली 2000 के नोट के समान हैं, लेकिन इन नोटों में जो हरे रंग का धागा होता है, वह मौजूद नहीं है। ये नोट असली नोटों की स्कैन करके फोटोग्राफी किए हुए हैं। इन नोटों को गिना गया तो पता चला कि ये 2000 के नोट के 9 असली नोटों की स्केन रंगीन फोटो प्रतियां हैं।
  <br><br>
        <a href="https://f87kg.app.goo.gl/V27t">Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today</a>
    <section class="type:slideshow">
                </section>

Be First to Comment

Thanks to being a part of My Daiky bihar news .

%d bloggers like this: