Press "Enter" to skip to content

थाने के सामने ही बदमाशों ने युवक की चाकुओं से गोदकर कर दी हत्या [Source: Dainik Bhaskar]



मंगोलपुरी इलाके में बीती रात एक युवक की थाने के सामने चाकू घोंपकर निर्मम हत्या कर दी। जबकि वारदात के वक्त सड़क पर सौ से ज्यादा लोगों की आवाजाही थी। लेकिन किसी ने भी युवक को बचाने की हिम्मत नहीं जुटाई। मृतक की पहचान पीयूष उर्फ चिकू (18) के रूप में हुई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाले 2 नाबालिग समेत 4 को पकड़ लिया है। पकड़े गए दो आरोपियों की पहचान अश्विनी (22) और शुभम उर्फ बमबम (19) के रूप में हुई है। पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल चाकू भी जब्त कर लिया हैं। पुलिस पकड़े गए आरोपियों की निशानदेही पर उनके बाकी साथियों की भी तलाश कर रही है। वारदात थाने के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हुई है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पीयूष उर्फ चिकू परिवार के साथ आई-ब्लॉक मंगोलपुरी इलाके में रहता था। मंगलवार रात 8 बजे पुलिस को मंगोलपुरी थाने के सामने अज्ञात युवकों द्वारा पीयूष नामक युवक को चाकू घोंपने की सूचना मिली। पुलिस मौके पर पहुंची। पीयूष को खून से लथपथ हालत में संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने पीयूष को मृत घोषित कर दिया।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के बाद एसएचओ मुकेश कुमार की देखरेख में पुलिस टीम को आरोपियों को पकडऩे का जिम्मा सौंपा गया। पीयूष के परिवार वालों से भी पूछताछ की गई। जिसमें कुछ आरोपियों की पहचान हुई। जिनके घर व उनके ठिकानों पर छापेमारी कर गिरफ्तार कर लिया।

अकेला देखते ही आरोपियों ने युवक को मारे दर्जनों चाकू
परिवार वालों ने बताया कि पीयूष रात को अकेला बाजार गया था। जब वह मंगोलपुरी थाने के सामने पहुंचा। वहीं पर आरोपियों ने उसपर एक के बाद एक चाकू से कई वार किए। उसने बचने की काफी कोशिश भी की थी। लेकिन आरोपियों ने उसको भागने का मौका तक नहीं दिया। उसको सड़क पर गिराकर उसपर चाकुओं से जानलेवा हमला किया था।

लोग हिम्मत करते तो बचती जान-परिवार
परिवार वालों का कहना है कि जिस समय पीयूष को आरोपियों ने मारा था। उस समय सड़क पर सौ से ज्यादा लोगों की आवाजाही थी। जब आरोपियों ने पीयूष पर हमला किया, उस समय लोग हिम्मत कर पीयूष को बचाने की कोशिश करते तो शायद वह आज जिंदा होता। लेकिन किसी एक ने शोर तक नहीं मचाया, जिससे थाने में तैनात पुलिस वाले तुरंत बाहर आ जाते।

आरोपी वारदात के बाद हवा में खून से सने चाकू लहराते हुए फरार हो गए थे। आरोपी पहले से ही पीयूष से किसी बात को लेकर बदला लेना चाहते थे। लेकिन पीयूष ने किसी भी बात को परिवार से सांझा नहीं किया था। परिवार का आरोप है कि जिस समय पीयूष को आरोपियों ने मारा था।

पीयूष की हत्या के बाद दहशत
पीयूष की हत्या के पीछे स्थानीय लोग गैंगवार की आशंका जाहिर कर रहे हैं। जिन आरोपियों ने पीयूष की जान ली है वे आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। चाकू दिखाकर सामने वाले को मारने की धमकी देकर इलाके में अपनी दादागिरी दिखाते हैं। पुलिस भी इनके बारे में पहले से जानती है।

लेकिन इनके खिलाफ मामला सामने आने का इंतजार करती है। आरोपियों की हिम्मत और पुलिस का इलाके में लचरपन इसी से देखा जा सकता है कि आरोपियों ने थाने के गेट के सामने पीयूष की हत्या की थी। जिसका उनको कोई डर नहीं था।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


फाइल फोटो

More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: