Press "Enter" to skip to content

डाल का रसीला आम आएगा सीधा आपके घर, Mango Baba Mobile App से मिलेगी ये खास सुविधा [Source: Patrika : India’s Leading Hindi News Portal]

लखनऊ. Mango Baba Mobile App: कोरोना काल में दशहरी आम को घर-घर डिलीवरी कराने की तैयारी चल रही है। पिछले साल लॉन्च मैंगो बाबा मोबाइल ऐप के जरिए इस बार डाल के आम का ऑर्डर किया जा सकेगा। फिर बाग से सीधे आम आपके घर पहुंचेगा। डिलीवरी को लेकर कंपनी से बातचीत चल रही है। मलिहाबाद के केंद्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान के निदेशक डॉ. शैलेंद्र राजन ने मैंगो बाबा ऐप लॉन्च किया था। कोई भी गूगल प्ले स्टोर से इस ऐप को डाउनलोड कर, आम घर मंगा सकेगा। इससे न केवल बागबानों को बिचौलियों से राहत मिलेगी, बल्कि ग्राहकों को भी कार्बाइड मुक्त डाल आम, कम दाम पर घर बैठे मिलेगा।

डाल का आम सीधे पहुंचेगा घर

यह ऐप न केवल स्वादिष्ट और उत्तम क्वालिटी के आम सीधे घर तक पहुंचाएगा, बल्कि संस्थान के उद्यमियों द्वारा बनाए गए आम से संबंधित उत्पाद को भी उपलब्ध कराने में सहायक होगा। आम की विभिन्न किस्मों की आइसक्रीम भी सीधे ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए इस ऐप का उपयोग हो सकेगा। आम की लुप्त होती प्रजातियों को बचाने में भी यह ऐप कारगर साबित होगा। आम की आपूर्ति चेन से जुड़े लोग ऑफलाइन बिक्री भी कर सकेंगे।

बाग से ही बिक जाएगा आम

मैंगो बाबा ऐप का सबसे अधिक फायदा बागबानों को होगा। इस ऐप के जरिए बागबानों का आम बाग से ही आराम से बिक जाएगा। केंद्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान किसान एवं उद्यमियों के साथ मिलकर इसकी कार्ययोजना बना रहा है। इसके अलावा एक और फायदा यह होगा कि ऐप किसानों को मंडी तक जाने की जहमत से भी बचाएगा। इस एप के द्वारा विभिन्न प्रकार के आम और उससे बने उत्पादों को ग्राहकों तक पहुंचाने और उद्यमियों को उचित दाम दिलाने के उद्देश्य की पूर्ति होगी।

यूपी का दशहरी बेहद खास

उत्तर प्रदेश में दशहरी आम का हमेशा से बोलबाला रहा है। उन्नत किस्म में रेशे नहीं होते। उसके बाद नंबर आता है लंगड़ा आम का, जो रेशेदार होता है। यह आम अपनी खास मिठास के लिए जाना जाता है। इस आम की गुठली छोटी और गूदा भरपूर होता है। वहीं चौसा, जब आम के सीजन के अंत में बाकी आप मिलने लगभग बंद हो जाते हैं, तब आता है। इसका रेशा युक्त गुदा और मिठास बैहद खास होती है।

आम की गुणवत्ता बनाए रखना कठिन

केंद्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान मलिहाबाद के निदेशक डॉ. शैलेंद्र राजन के मुताबिक कोरोनावायरस के संक्रमण काल में आम की गुणवत्ता को बनाए रखने की चुनौती भी बागबानों के सामने है। इस साल आम की पैदावार भी कम होने की संभावना है, क्योंकि आम पर रोग नियंत्रण में बागबानों को दिक्कत हो रही है। संक्रमण काल में ऐप के माध्यम से डाल के आम को पहुंचाने को लेकर कंपनी से अभी बात चल रही है। अभी सीजन आने में एक महीने का समय बाकी है। गुणवत्ता युक्त आम घर तक वाजिब दाम में पहुंचे, यही ऐप लॉन्च करने का मेन मकसद है।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव में बीजेपी को क्यों हुआ इतना बड़ा नुकसान, जानें वाराणसी-अयोध्या और मथुरा से पकड़ ढीली होने का मुख्य कारण

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: