Press "Enter" to skip to content

छठ घाट पर प्रसाद के वितरण की मनाही, डुबकी लगाने पर भी रोक [Source: Dainik Bhaskar]



कोरोना काल में हो रहे छठ घाटों पर नियम अलग होंगे। प्रसाद का वितरण घाटों पर मना कर दिया गया है। घाट पर बैरकेडिंग इस तरह से कराई जाएगी कि लोग डुबकी न लगा सकें। यह निर्देश राज्य सरकार के गृह विभाग की ओर सभी जिलों के जिला प्रशासन को लिखे पत्र में दिया गया है। प्रशासन की जवाबदेही है कि इसे लागू करवाए।

घरों में छठ करने की अपील
लोगों को सलाह दी गई है कि गंगा घाटों पर भीड़ होने पर दो लोग आपस में सामाजिक दूरी का पालन नहीं कर पाएंगे, इसलिए बेहतर हो कि लोग अपने घरों पर छठ करें। जिला प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि पूजा के लिए जो लोग जल ले जाना चाहते हैं। उनके लिए आवश्यक व्यवस्था की जाए। इसके लिए भी सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का उपयोग जरूरी है।
डुबकी लगाने पर रोक
ग्रामीण क्षेत्रों और शहरी इलाकों में जहां छोटे तालाबों पर छठ का आयोजन होगा वहां भी लोगों के लिए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना जरूरी होगा। छठ पूजा घाट पर यत्र-तत्र थूकना वर्जित होगा। तालाब में अर्घ्य देने के दौरान डुबकी न लगाएं। बैरिकेडिंग इस तरह से होगी कि लोग डुबकी न लगा सकें।

इन आयोजनों पर भी रोक
छठ पूजा घाट के आस पास खाद्य पदार्थ का स्टॉल नहीं लगाया जाएगा। किसी तरह का कोई सामुदायिक भोज, प्रसाद या भोज का वितरण नहीं किया जाएगा। 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, बुखार से ग्रस्त व्यक्ति और अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त व्यक्ति को सलाह दी गई है कि वे छठ घाट पर न जाएं। इस मौके पर किसी तरह का मेला, जागरण, सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं होगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


छठव्रतियों से जिला प्रशासन की अपील- घाटों पर नहीं, घरों में ही करें छठ पूजा।

More from बिहार समाचारMore posts in बिहार समाचार »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: