Press "Enter" to skip to content

छठ घाटाें की सफाई, मजबूत बैरिकेडिंग व पहुंच पथ में काेताही पर हाेगी कार्रवाई [Source: Dainik Bhaskar]



छठ घाटाें पर सभी व्यवस्था समय से हाे। अर्घ्य के दाैरान काेई हादसा न हाे और छठव्रतियाें काे किसी तरह की परेशानी न हाे। इसके लिए रविवार काे विशेष आदेश जारी किए गए। नदियों, तालाबों, पोखरों आदि घाटाें पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। इसलिए अंचलाधिकारी सभी घाटों का निरीक्षण कर रिपाेर्ट देंगे।

यदि किसी घाट पर पानी की गहराई ज्यादा हाेगी या अन्य किसी कारणों से वहां पर्व का आयोजन संभव नहीं होगा तो ऐसे घाटों को खतरनाक घोषित करने की कार्रवाई एसडीओ करेंगे। ये आदेश रविवार काे डीएम डाॅ. चंद्रशेखर सिंह ने जारी किए। नगर आयुक्त, एडीएम आपदा, सभी सीओ व बीडीओ के साथ विशेष बैठक में डीएम ने कहा कि महापर्व छठ 20-21 नवंबर काे मनाया जाना है। इसके लिए सभी घाटों पर साफ-सफाई, पूर्ण प्रकाश की व्यवस्था, मजबूत बैरिकेडिंग, पहुंच पथ की तैयारी में किसी तरह की काेताही नहीं हाेनी चाहिए। किसी तरह की लापरवाही पर कार्रवाई की जाएगी। कहा कि शहरी क्षेत्र में घाटों की संख्या अधिक है। ऐसे घाटों पर हर दृष्टिकोण से पुख्ता इंतजाम कराएं। गहरे पानी वाले घाटों पर गोताखाेर व आवश्यकतानुसार नावों की व्यवस्था कराएं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम : नाव की व्यवस्था, गोताखोर की तैनाती

  • सभी छठ घाटाें पर की जानी है पूरी व्यवस्था
  • नियंत्रण कक्ष व उसमें पब्लिक एड्रेस सिस्टम
  • घाटों के आसपास पर्याप्त प्रकाश की व्यवस्था
  • लटकते सभी बिजली तारों काे हटाया जाना है
  • सभी घाटों पर नाव व गाेताखाेराें की व्यवस्था
  • घाटाें पर चलंत शौचालय और समुचित पेयजल
  • सभी छठ घाट पर वाहन लगाने के लिए समुचित पार्किंग स्थल।

चार दिवसीय छठ महापर्व 18 नवंबर से शुरू हाे जाएगा, लेकिन घाटाें की साफ-सफाई की रफ्तार काफी सुस्त है। शहर के प्रमुख घाटाें पर भी अब तक चाराें तरफ कचरा है। सभी घाटाें की सफाई करना नगर निगम प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। हालांकि, नगर निगम के अधिकारी का कहना है कि सिकंदरपुर, आश्रमघाट, सिकंदरपुर सीढ़ीघाट, अखाड़ाघाट, लकड़ीढाई समेत सभी जलाशयाें के घाटाें की सफाई शुरू कर दी गई है। मजदूरों की संख्या बढ़ाकर तेजी से सभी काम कराए जाएंगे।

स्वास्थ्य विभाग की सलाह : घाट पर बच्चे व 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले नहीं जाएं, घाटों का होगा सैनिटाइजेशन पर सबके लिए एहतियात जरूरी

कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने छठ घाट पर बच्चों और 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को नहीं जाने की सलाह दी है। छठ घाट पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। यही कारण है कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा जा रहा है कि वह सुरक्षित रह कर घर पर छठ पर्व मनाएं। छठ में दूसरे प्रदेश से लोग आ रहे हैं, ऐसे स्वास्थ्य विभाग को आशंका है कि कोरोना संक्रमण बढ़ सकता है।
ऐसे में एहतियातन बच्चे और 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को छठ घाट पर नहीं जाने की सलाह दी गई। एसीएमओ डॉ. विनय कुमार ने बताया कि प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सभी जिलों को वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए निर्देशित किया है कि वह छठ घाटों पर कम उम्र के बच्चों और बुजुर्गों को नहीं जाने के लिए जागरूक करें। साथ ही स्वास्थ्य विभाग को घाटों पर स्क्रीनिंग कराने का भी उन्होंने निर्देश दिया है। सभी घाटों को सैननिटाइज भी करने को निर्देश दिया गया है। इधर, प्रधान सचिव ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया कि दूसरे राज्यों से लोग इस महापर्व में आ रहे हैं। इस कारण अनिवार्य रूप से कोरोना की जांच जारी रखें।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


शहर के अखाड़ाघाट में फैला कचरा। यहां जुटते हैं सर्वाधिक श्रद्धालु।

More from बिहार समाचारMore posts in बिहार समाचार »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: