Press "Enter" to skip to content

कोरियाई कथाओं की कतार, बीस साल में दर्जनों Bollywood Movies में थीम ली गई उधार [Source: Patrika : India’s Leading Hindi News Portal]

-दिनेश ठाकुर
तमिल सिनेमा के सुपर सितारे विजय की नई फिल्म ‘मास्टर’ ( Master Movie ) 13 जनवरी को सिनेमाघरों में पहुंच गई। इस तमिल फिल्म को हिन्दी और तेलुगु में भी डब किया गया है। इसमें विजय कॉलेज प्रोफेसर के किरदार में हैं, जो विद्यार्थियों के यौन शोषण के खिलाफ जंग छेड़ता है। इस थीम पर दक्षिण कोरिया 2011 में ‘साइलेंस्ड’ नाम से फिल्म बना चुका है। नब्बे के दशक के आखिर में दक्षिण कोरिया के ग्वांगजू शहर के एक स्कूल के बधिर विद्यार्थियों के यौन शोषण का मामला सुर्खियों में रहा था। मामले के दोषी शिक्षकों को वहां की अदालत ने मामूली सजा देकर छोड़ दिया। कोरियाई लेखक गोंग जी-यंग ने इस मसले पर उपन्यास ‘द क्रूसिबल’ लिखा। ‘साइलेंस्ड’ इसी पर आधारित थी। इस तेज-तर्रार फिल्म ने कोरियाई अवाम को जगा दिया। विरोध प्रदर्शन ने वहां की सरकार पर दबाव डाला। यौन शोषण मामले की नए सिरे से जांच हुई। नेशनल असेम्बली ने ऐसे मामलों के कानून में कड़ी सजा के प्रावधान जोड़े। सिनेमा सामाजिक सरोकार कैसे अदा कर सकता है, ‘साइलेंस्ड’ इसकी मिसाल है।

यह भी पढ़ें : अनिल कपूर ने खोला पुराना राज, कहा-बुरा वक्त पीछे रह गया, मुझे ये बताने में कोई हिचक नहीं

कहानी किसी की, श्रेय किसी और को
इधर, कुछ भारतीय फिल्मकार कोरियाई फिल्मों की थीम पर हाथ मारने की मिसाल कई बार पेश कर चुके हैं। जब से कहानियों की चोरी के खिलाफ हॉलीवुड ने सख्ती बरतना शुरू किया है, कोरियाई फिल्में हमारे फिल्मकारों के लिए आसान शिकारगाह बन गई हैं। पिछले बीस साल में हिन्दी और दक्षिण की भाषाओं में ऐसी 30 से ज्यादा फिल्में बन चुकी हैं, जिनकी थीम कोरियाई फिल्मों से उठाई गई। इमरान हाशमी की ‘आवारापन’ की प्रचार सामग्री में कहानी का श्रेय महेश भट्ट को दिया गया, जबकि यह सीधे-सीधे कोरियाई ‘ए बिटरस्वीट लाइफ’ की नकल थी। महेश भट्ट के घरेलू बैनर की ‘मर्डर 2’ की प्रेरणा कोरियाई ‘चेजर’ थी। इस बार प्रचार सामग्री में मूल फिल्म के कहानीकार का नाम देकर ईमानदारी बरती गई। अमिताभ बच्चन की ‘तीन’ कोरिया की ‘मोंटेज’ का रीमेक थी, तो ऐश्वर्या रॉय की ‘जज्बा’ की कहानी ‘सेवेन डेज’ से उठाई गई।

यह भी पढ़ें : जाह्नवी कपूर का इस साल का पहला डांस वीडियो, करीना के गाने पर लचकाई कमर, चाचा-चाची ने कही ये बात

‘आई सॉ द डेविल’ पर ‘एक विलेन’
सिद्धार्थ मल्होत्रा और रितेश देशमुख की ‘एक विलेन’ में कहानीकार के तौर पर तुषार हीरानंदानी का नाम दिया गया। बाद में पता चला कि इससे चार साल पहले आई कोरियाई ‘आई सॉ द डेविल’ की कहानी भी यही थी। कोरिया की ‘द मैन फ्रॉम नोव्हेयर’ को भारत में ‘रॉकी हैंडसम’ (जॉन अब्राहम), तो ‘माय वाइफ इज ए गैंगस्टर’ को ‘सिंग इज ब्लिंग’ (अक्षय कुमार) के तौर पर पेश किया जा चुका है। संजय दत्त की ‘जिंदा’, मल्लिका शेरावत की ‘अगली और पगली’ तथा विवेक ओबेरॉय की ‘जयंतभाई की लव स्टोरी’ क्रमश: कोरियाई ‘ओल्ड बॉय’, ‘माय सेसी गर्ल’ और ‘माय गैंगस्टर लवर’ का रीमेक थीं।

सलमान की ‘राधे’ भी रीमेक
कोरियाई फिल्मों के प्रति हमारे फिल्मकारों का मोह भंग होता नहीं लगता। सलमान खान की नई फिल्म ‘राधे : योर मोस्ट वांटेड भाई’ तीन साल पहले आई कोरियाई ‘द आउटलॉज’ का रीमेक है। सलमान की ‘भारत’ भी कोरियाई ‘ओड टू माय फादर’ का रीमेक थी। कार्तिक आर्यन को लेकर बन रही ‘धमाका’ कोरिया की ‘द टेरर लिव’ (2013) का रीमेक होगी।

More from BollywoodMore posts in Bollywood »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: