Press "Enter" to skip to content

केजीएमयू के 50 प्रतिशत चिकित्सक संक्रमित, निजी अस्पतालों का भी बुरा हाल, विज्ञापन के बाद भी नहीं मिल डॉक्टर [Source: Patrika : India’s Leading Hindi News Portal]

लखनऊ. डॉक्टर्स को धरती का भगवान कहा जाता है। किसी बीमारी या गंभीर रूप से घायल होने पर डॉक्टर तत्काल मरीज को चिकित्सीय सुविधा देता है। कोरोना (Corona Virus) काल में भी लगातार डॉक्टर मरीजों की सेवा में लगे हैं। लेकिन कोविड संक्रमित मरीजों की जान बचाने में लगे डॉक्टर अब खुद भी संक्रमित हो रहे हैं। कोविड वार्ड में घंटों ड्यूटी के कारण डॉक्टर्स व स्टाफ में भी संक्रमण फैल रहा है। सूबे के सबसे बड़े मेडिकल कालेज किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) के 50 प्रतिशत चिकित्सक संक्रमित पाए गए हैं। इनमें डीन सहित आठ की जान जा चुकी है। अन्य अस्पतालों में भी यही हाल है। मरीजों को ठीक करने वाले डॉक्टर खुद भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं।

केजीएमयू में कोरोना की दूसरी लहर के बीच अब तक छह कर्मचारी, एक फैकल्टी डॉक्टर व एक रेजिडेंट की जान जा चुकी है। अस्पताल के 600 डॉक्टर्स के संक्रमित हुए हैं। पिछले वर्ष भी केजीएमयू के 300 के करीब डॉक्टर-कर्मी संक्रमित हुए थे। वहीं इस बार भी कैम्पस में संक्रमण फैल गया है। इसे देखते हुए केजीएमयू प्रशासन किसी तरह दूसरे विभाग से डॉक्टर व स्टाफ बुलाकर उनकी सेवाएं ले रहा है। इसी तरह लोहिया संस्थान में भी डॉक्टर और स्टाफ का बड़ा संकट आ पड़ा है। कोविड ड्यूटी करने वाले वालों सहित दूसरे डॉक्टर व स्टाफ को मिलाकर 40 प्रतिशत से अधिक लोग पॉजिटिव हो चुके हैं। इसमें करीब 50 से अधिक फैकल्टी व रेजिडेंट भी शामिल हैं।

निजी अस्पतालों का भी बुरा हाल

सरकारी अस्पतालों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इस कारण लोग निजी अस्पतालों में मरीज को एडमिट करने पर निर्भर हैं। लेकिन यहां भी स्टाफ की समस्या खड़ी हो गई है। डॉक्टर्स कोविड की चपेट में आ रहे हैं, जिस कारण इलाज प्रभावित हो रहा है। राजधानी के इंटीग्रल हॉस्पिटल में ही करीब 50 स्टाफ संक्रमित हो चुका है। इसमें एक डॉक्टर की दो दिन पहले मौत भी हो चुकी है। यहां के डीन, कुलपति समेत 50 से अधिक लोग पॉजिटिव हैं। इसी तरह निजी मेडिकल कॉलेज कैरियर हॉस्पिटल में बड़ी संख्या में डॉक्टर संक्रमित पाए गए हैं।

विज्ञापन के बाद भी नहीं मिल डॉक्टर

कोविड वार्ड में स्टाफ के संकट को देखते हुए ड्यूटी के लिए रेजिडेट की भर्ती निकाली गई। कोविड वार्ड में लेकिन आलम यह है कि विज्ञापन निकालने के बाद भी चिकित्सक नहीं मिल रहे हैं। डॉक्टर और स्टाफ की कमी बनी हुई है। जहां डॉक्टर्स मिल भी गए वहां स्टाफ का अकाल पड़ा है।

दूसरे जिले से आए हैं डॉक्टर

बलरामपुर अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. हिमांशु ने कहा कि कोविड ड्यूटी के लिए दूसरे जिलों से डॉक्टर बुलाए गए हैं। अस्पताल में बहुत से डॉक्टर व स्टाफ संक्रमित हैं। लेकिन फिर भी चिकित्सकों का संकट बना हुआ है। अनुभवी डॉक्टर्स के मुकाबले सीखने वाले मेडिकल छात्रों के भरोसे इस वक्त कोविड उपचार सिस्टम है।

ये भी पढ़ें: अस्पताल की चरमराई व्यवस्था पर सांसद कौशल किशोर का सीएम योगी को पत्र, कहा- अस्पताल में बेड खाली लेकिन नहीं मिल रहा इलाज

ये भी पढ़ें: बांदा जेल में कोरोना विस्फोट, मुख्तार समेत अब तक 50 लोग संक्रमित

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: