Press "Enter" to skip to content

काेयला व्यापारी की नक्सलियाें ने की हत्या, नक्सली पुलिस मुखबिर तो पुलिस मानती थी नक्सलियों से साठगांठ [Source: Dainik Bhaskar]



पत्थलगडा-सिमरिया प्रखंड की सीमा पर स्थित सिनपुर छठ घाट पर शनिवार सुबह काेयला व्यापारी मुकेश गिरि (38) की नक्सलियाें ने गाेली मारकर हत्या कर दी। नक्सलियाें ने हस्तलिखित पर्चा छाेड़कर हत्या की जिम्मेदारी ली। लाल स्याही से लिखे पर्चे में कहा गया है कि पुलिस मुखबिर एसपीओ मुकेश गिरि काे मृत्युदंड दिया जाता है। पुलिस दबाव डालकर मुखबिर बनाना बंद करे। मुकेश तपसा गांव के रहने वाले थे। वह आम्रपाली व मगध काेल परियाेजना में ठेकेदारी करते थे।

उधर, भाई पंकज गिरि ने कहा कि मुकेश नक्सली और पुलिस, दाेनाें के दबाव में थे। नक्सली पुलिस का मुखबिर बताते थे ताे पुलिस उनका नक्सलियाें से साठगांठ बताती थी। कहती थी-नक्सलियाें का सुराग दाे और गिरफ्तार कराओ। इससे वह मानसिक रूप से इतने परेशान थे कि इलाका छाेड़ना चाहते थे। सिमरिया के हर्षनाथपुर में घर बना लिया था। एक माह बाद उन्हें शिफ्ट हाेना था, इससे पहले ही नक्सलियाें ने उन्हें मार डाला।

घटनास्थल से बरामद पर्चा।

प्रत्यक्षदर्शी विकास गिरि और सहदेव यादव से जानिए- कैसे हुई घटना

सुबह के 6:15 बजे थे। सिनपुर छठ घाट पर तपसा और सिनपुर गांव के 14 घराें के करीब 150 श्रद्धालु माैजूद थे। उगते सूर्य काे अर्घ्य दे रहे थे। मुकेश गिरि ने मां और पत्नी के साथ अर्घ्य देने के बाद फाेटाे खिंचवाई। दाे-तीन मिनट बाद वह पानी से निकले ही थे कि तीन वर्दीधारी नक्सली पहुंचे। बंदूक तानकर मुकेश काे मेढ़ पर ले गए और पिटाई करने लगे।

मुकेश ने एक नक्सली काे पकड़ लिया ताे उसके दाे साथियाें ने गले में गाेली मार दी। वह जमीन पर गिरे ताे नक्सलियाें ने पीठ पर दाे गाेलियां मार दीं। चचेरा भाई राजू गिरि मुकेश काे सिमरिया रेफरल अस्पताल ले गए, जहां से डाॅक्टराें ने हजारीबाग रेफर कर दिया। हजारीबाग सदर अस्पताल पहुंचते ही डाॅक्टराें ने उन्हें मृत घाेषित कर दिया।

सूप-दउरा छाेड़ जान बचाकर भागे व्रती

फायरिंग की आवाज से पूरा इलाका थर्रा गया। एक के बाद एक तीन गाेलियां चलीं। इससे वहां भगदड़ मच गई। तभी किसी ने शाेर मचाया कि मुकेश गिरि काे गाेली मार दी गई है। इसके बाद व्रती और उनके साथ गए श्रद्धालु सूप और दउरा छाेड़कर जान बचाकर भागने लगे।

डीजीपी बाेले-मुकेश की उग्रवादियाें से थी साठगांठ

चतरा पहुंचे डीजीपी एमवी राव ने कहा-मृतक की उग्रवादियाें से साठगांठ रही है। 17 सीएलए एक्ट के तहत वह जेल भी जा चुका है। लेकिन हत्या किसी की भी हाे, हत्या की घटना जघन्य हाेती है। हत्याराें की धरपकड़ के लिए छापेमारी की जा रही है। जल्दी ही खुलासा हाे जाएगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


कारोबारी की आखिरी तस्वीर

More from झारखंड खबरMore posts in झारखंड खबर »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: