Press "Enter" to skip to content

ऑपरेशन थिएटर जैसे नजर आ रहे सैलून-ब्यूटी पार्लर, सोशल डिस्टेंस के लिए एक बार में 2 ही कस्टमर को दे रहे अपॉइंटमेंट




कोरोना काल में शहर के सैलून और ब्यूटी पार्लर में वर्किंग स्टाइल पूरी तरह बदल चुकी है। सैलून और ब्यूटी पार्लर अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर की तरह नजर आने लगे हैं। स्टाफ बॉडीकवर्स, मास्क, फेस शील्ड और शू कवर्स पहने हुए रहता है। इसके अलावा काम काज के तरीके में भी काफी बदलाव आया है।

ब्यूटीशियन तान्या वर्मा ने बताया कि लॉकडाउन के बाद अब जिंदगी पहले जैसी नहीं रही। अब संक्रमण के चलते पार्लर पर आने वाली हर कस्टमर का ईमेेल आईडी व कॉन्टैक्ट नंबर लिया जाता है। कस्टमर को रजिस्टर में हेल्थ डिक्लेरेशन भी देना होता है। इसके अलावा अब कई पार्लर पर कस्टमर को अपॉइंटमेंट के आधार पर सर्विस दी जा रही है।

एक बार में सिर्फ दो कस्टमर को अपॉइंटमेंट दिया जा रहा है। विजय लक्ष्मी शर्मा ने बताया कि काफी समय के बाद ब्यूटी पार्लर में गई तो ऐसा लगा कि मैं किसी अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर में आ गई। पूरा नजारा बदला हुआ था। स्टाफ ओटी के सर्जन की तरह नजर आ रहा था। वेटिंग एरिया खाली था।

चेयर्स के बीच काफी दूरी थी। मुझे भी बॉडी कवर पहनाया गया। हाथ-पैर सेनेटाइज करने के बाद ही पार्लर में एंट्री दी गई। एवीएस स्टाइल यूनिसस सैलून के संचालक विजय सैन ने बताया कि संक्रमण के चलते सभी कस्टमर को स्क्रीनिंग एवं सेनेटाइजेशन के बाद ही प्रवेश मिलता है। आरोग्य सेतु एप का स्टेटस देखा जाता है।

स्टाफ : नेल स्पा व थ्रेडिंग में बरत रहे सावधानी
स्टाफ पीपीई किट, डिस्पोजेबल ग्लव्ज, मास्क और फेसशील्ड पहनकर सर्विस दे रहा है। क्लाइंट्स काे भी डिस्पोजेबल बॉडी कवर पहनना हाेता है। हर यूज के बाद टूल्स को स्टरलाइज किया जाता रहा है। नेल स्पा के लिए क्लाइंट-स्टाइलिस्ट के बीच एक्रिलिक शीट लगाई है ताकि ड्रॉपलेट स्प्रेड न हाें। नो अमोनिया हेयर कलर सजेस्ट कर रहे हैं क्योंकि इसमें सवा घंटे बैठना नहीं पड़ता।

थ्रेडिंग सबसे क्लोज़ कॉन्टैक्ट में आकर दी जाने वाली सर्विस है। अब अब थ्रेड होठों से नहीं पकड़ रहे बल्कि गर्दन में पहने हुए थ्रेडिंग बैंड में लगा रहे हैं क्योंकि मुंह पर मास्क होता है और उसे निकालने पर ड्रॉपलेट्स ट्रांसफर होने का खतरा भी होता है।

ग्राहक : सैलून के स्टाफ का भी आरोग्य सेतु स्टेटस चेक कर रहे
सैलून और ब्यूटी पार्लर के वेटिंग एरिया की बजाय ग्राहक अपनी गाड़ी में इंतजार करने को तरजीह दे रहे हैं। महिलाएं ब्यूटी पार्लर में बैग वगैरह नहीं ले जा रही, क्योंकि उसे सेनेटाइज करना मुश्किल होता है। एटीएम कार्ड व फोन जैसी जरूरी चीजें कस्टमर पाउच में रख रहे हैं। सैलून या पार्लर से लौटकर नहारा और कपड़ों को डेटॉल के पानी में डालना लोगों की आदत का हिस्सा बन रहा है।

कस्टर अब सैलून के स्टाफ का भी आरोग्य सेतु स्टेटस चेक रहे हैं, जो काफी जरूरी है। हैल्थ डिक्लेरेशन में बिना किसी बहस के बता रहे हैं कि हाल में कहां ट्रेवल किया।

   <br><br>
        <a href="https://f87kg.app.goo.gl/V27t">Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today</a>
    <section class="type:slideshow">
                    <figure>
            <a href="https://www.bhaskar.com/local/rajasthan/sikar/news/salon-beauty-parlor-seen-like-operation-theater-giving-appointments-to-2-customers-at-a-time-for-social-distance-127458813.html">
                <img border="0" hspace="10" align="left" src="https://i10.dainikbhaskar.com/thumbnails/891x770/web2images/www.bhaskar.com/2020/06/29/orig_capture_1593391834.jpg">
            <figcaption>Salon-beauty parlor seen like operation theater, giving appointments to 2 customers at a time for social distance</figcaption>
            </a> 
        </figure>
                </section><img src="https://i9.dainikbhaskar.com/thumbnails/680x588/web2images/www.bhaskar.com/2020/06/29/orig_capture_1593391834.jpg" title="ऑपरेशन थिएटर जैसे नजर आ रहे सैलून-ब्यूटी पार्लर, सोशल डिस्टेंस के लिए एक बार में 2 ही कस्टमर को दे रहे अपॉइंटमेंट" />
More from राजस्थानMore posts in राजस्थान »

Be First to Comment

Thanks to being a part of My Daiky bihar news .

%d bloggers like this: