Press "Enter" to skip to content

उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2021, सपा ने घोषित किए एक नहीं दो उम्मीदवार, सभी दलों के कान हुए खड़े [Source: Patrika : India’s Leading Hindi News Portal]

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2021 के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बुधवार सुबह तक किसी भी पार्टी के प्रत्याशी ने अपना नामांकन दाखिल नहीं किया था। सभी दल तैयारियों में जुटे हुए हैं। कोई भी किसी भी तरह की चूक नहीं करना चाहता है। समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने बुधवार सुबह प्रदेश कार्यालय में विधायकों संग बैठक के बाद यूपी के विधान परिषद चुनाव 2021 में अहमद हसन और राजेंद्र चौधरी को समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी घोषित किया है। समाजवादी पार्टी से दो नामों के ऐलान के बाद मुकाबल दिलचस्प हो गया है। सपा सुप्रीमो ने यह भी तय कर दिया है कि दोनों सपा प्रत्याशियों के प्रस्तावक कौन-कौन रहेंगे है।

मौसम विभाग का यूपी के कई जिलों में भारी शीतलहर का अलर्ट, इस तारीख को तो जबरदस्त रहेगी ठंड

भाजपा के लिए इम्तिहान की घड़ी :- उत्तर प्रदेश की 12 विधान परिषद सीटों पर राजनीतिक दलों ने अपनी रणनीति बना ली है। भारतीय जनता पार्टी के खाते में 9 सीटें तय मानी जा रही हैं, अन्य दलों के समर्थन के बाद एक और सीट खाते में आ सकती है। समाजवादी पार्टी को एक सीट मिलना तय है। कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी एक भी सीट जीतने की स्थिति में नहीं है। तब 12वीं सीट किस पार्टी के खाते में जाएगी। विधान परिषद चुनाव में सपा के दो प्रत्याशी उतारने से चुनाव बेहद दिलचस्प स्थिति में पहुंच गया है। विधानसभा चुनाव 2022 के करीब होने की वजह से यह चुनाव काफी अहम हो गया है। भाजपा के लिए इम्तिहान की घड़ी है।

सपा विपक्षी दलों में मारेगी सेंघ :- विधान परिषद चुनाव में समाजवादी पार्टी ने दूसरा प्रत्याशी उतारकर सबके कान खड़े कर दिए हैं। दूसरी सीट हासिल करने के लिए समाजवादी पार्टी की निगाहेेें बहुजन समाज पार्टी के साथ ही दूसरे दलों के कुछ असंतुष्ट विधायकों पर है। समाजवादी पार्टी इस बार विपक्षी दलों में सेंघ मारने की रणनीति बना ली है।

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: