Press "Enter" to skip to content

अवैध खनन में गिरफ्तार भटवाड़ा का युवक कोरोना पॉजिटिव, हड़कंप मचा, पूरे थाने की स्क्रीनिंग कराई




चेचट थाना क्षेत्र में एक युवक मंगलवार को कोरोना पॉजिटिव आया है। भटवाड़ा निवासी इस युवक और उसके पिता को पुलिस ने अवैध खनन मामले में गिरफ्तार किया था। दोनों को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उनको जेल भेज दिया गया। ऐसे में पुलिस दोनों आरोपी पिता-पुत्र को कोटा जेल लेकर गई थी। कोरोना के कारण जेल जाने वाले लोगों की जांच होती है। इन दोनों की भी जांच हुई, इसमें पिता तो निगेटिव निकला, लेकिन पुत्र की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। इस सूचना के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। चिकित्सा विभाग ने पुलिस थाने को सेनेटाइज करवाया और पुलिसकर्मियों की स्क्रीनिंग भी की। आरोपियों को लेकर गए पुलिसकर्मियों की कोटा में जांच की गई है, उनकी रिपोर्ट आना बाकी है।

जानकारी के अनुसार पुलिस ने अवैध खनन के एक मामले में कार्रवाई की थी। उस समय आरोपी पिता-पुत्र अपना वाहन छोड़कर मौके से फरार हो गए थे। इसके बाद पुलिस ने दोनों को रविवार को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया था। यहां से उन्हें जेल भेज दिया। कोरोना के कारण रामगंजमंडी की जेल में मुजरिमों को नहीं रखा जाता है। कोटा में विशेष जेल बनाई गई है, जहां जांच के बाद भी आरोपियों को 14 दिनों तक रखा जाता है। इसके बाद जेल में शिफ्ट किया जाता है। इसे कारण पुलिसकर्मी दोनों आरोपियों को कोटा जेल लेकर पहुंचे। वहां नियमानुसार दोनों को कोरोना टेस्ट किया गया। इसमें 25 साल का युवक कोरोना पॉजिटिव निकल गया। बीसीएमओ डॉ. रईस खान ने बताया कि पुलिस वालों की स्क्रीनिंग कर ली है।

युवक चलाता था बाहर के वाहन

हालांकि, लोगों के यह बात गले नहीं उतर रही है कि 60 वर्षीय पिता निगेटिव आए हैं, जबकि दोनों लंबे समय से साथ ही रहे हैं। थानाधिकारी देवलाल मीणा ने कहा कि 25 वर्षीय युवक जब से फरार हुआ था, तब से बाहर के वाहन चलाने का काम करता था। अब इनको कोटा ही रखा जाएगा। इनके साथ गए तीनों पुलिसकर्मियों की भी कोटा में जांच हो रही है।

पुलिसकर्मी बोले- हमारी सुरक्षा का जिम्मेदार कौन
नाम नहीं छापने की शर्त पर कुछ पुलिसकर्मी बताते हैं कि थानों तक तो यह आधुनिक उपकरण पहुंचे ही नहीं। हम आरोपियों को लाते हैं, कोर्ट ले जाते हैं और जेल तक पहुंचाते हैं। हमें नहीं पता होता कि कौन संक्रमित है। ऐसे में हमारी सुरक्षा के लिए कौन जिम्मेदार है। बड़े अधिकारियों को चाहिए कि हर थाने में सुरक्षा उपकरण दिए जाएं। जब उपकरण वितरित करने के लिए आए थे तो थानों तक क्यों नहीं पहुंचे। अगर थाने में आए हैं तो फिर जिम्मेदारों ने पुलिसकर्मियों को क्यों नहीं दिए।

    <br><br>
        <a href="https://f87kg.app.goo.gl/V27t">Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today</a>
    <section class="type:slideshow">
                </section>

Be First to Comment

Thanks to being a part of My Daiky bihar news .

%d bloggers like this: