Press "Enter" to skip to content

अपनी तैयारी के मुताबिक करें परीक्षा के सेशन का चुनाव, एक्सपर्ट से जानें चार बार होने वाली परीक्षा के फायदे और सही सेशन के चुनाव का तरीका [Source: Dainik Bhaskar]



IITs और इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए होने वाले JEE मेन की परीक्षा में अब करीब डेढ़ महीने का समय बाकी है। ऐसे में स्टूडेंट्स उन टॉपिक्स पर ध्यान दे सकते हैं, जिन्हें बोरिंग समझकर छोड़ दिया गया है या अभी तक बहुत ज्यादा ध्यान नहीं दिया। वहीं, कुछ ऐसे स्टूडेंट्स भी है, जो लॉकडाउन में तैयारी पूरी करने के बाद अब अपनी तैयारी और मजबूत कर रहे हैं। ऐसे में FIITJEE जयपुर के मैनेजिंग पार्टनर ध्रुव कुमार बैनर्जी बच्चों को बता रहे है परीक्षा में शामिल होने से पहले तैयारी की प्लानिंग और कुछ टिप्स के बारे में-

अपनी सुविधा के मुताबिक करें परीक्षा सेशन का चुनाव

एक्सपर्ट ध्रुव कुमार बैनर्जी के मुताबिक स्टूडेंट्स अपनी तैयारी के हिसाब से चारों में से 2 या 3 बार परीक्षा में शामिल हो सकता है। इसके अलावा वह चारों सेशन की परीक्षा भी दे सकता है। ऐसे स्टूडेंट्स जिन्होंने लॉकडाउन में अपनी तैयारी पूरी नहीं की, वह परीक्षा के लास्ट अटेंम्ट में शामिल हो सकता है। वहीं, वह स्टूडेंट जिनकी तैयारी पूरी हो चुकी है, वह फरवरी में होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकता है।

चैप्टर और टॉपिक वाइज करें रीविजन :-

फिजिक्स कंसेप्चुअल सब्जेक्ट है, जिसमें कॉन्सेप्ट काफी मायने रखते हैं। स्टूडेंट्स को 12वीं की फिजिक्स के अलावा 11वीं की फिजिक्स को भी दोबारा पढ़ना चाहिए। इसमें से एक टॉपिक मैकेनिक्स बहुत अहम है। वहीं, मॉडर्न फिजिक्स में सेमी-कंडक्टर टॉपिक स्टूडेंट्स को शुरुआत में बोरिंग लगता है, लेकिन प्रैक्टिकल एप्रोच के साथ पढ़ा जाए तो यह काफी इंट्रेस्टिंग है।

JEE मेन में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स तीनों सब्जेक्ट से सवाल पूछे जाएंगे। ऐसे में परीक्षाओ की तारीख की मुताबिक सभी सब्जेक्ट्स को चैप्टर और टॉपिक वाइज रीविजन करें। शॉर्ट नोट्स और फॉर्मूले की लिस्ट बनाएं। ये नोट्स एग्जाम्स से पहले क्विक रीविजन में मदद करेंगे।

ऐसे करें तैयारी-

1) ज्यादा से ज्यादा फॉर्मूले दोहराएं

JEE के लिए जो नोट्स तैयार किए हैं, उन्हें पढ़िए। फिजिक्स, केमिस्ट्री जैसे सब्जेक्ट्स के फॉर्मूला को ज्यादा से ज्यादा दोहराते रहें। एग्जाम के दौरान स्टूडेंट्स अक्सर कुछ फॉर्मूले की वजह से सवाल नहीं हल कर पाते हैं।

2) प्रैक्टिस ही सबसे कारगर तरीका

एग्जाम में अब ज्यादा समय नहीं है, तो पढ़े गए टॉपिक्स की ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करें। जितना हो सके सब्जेक्ट्स को दोहराते रहें और क्वेश्चन बैंक को भी ध्यान से पढ़ते रहें। कम से कम पिछले 10 साल के क्वेश्चन पेपर जरूर सॉल्व करें।

3) NCERT की बुक्स से करें तैयारी

यह ध्यान रखें कि JEE के लिए मिनिमम और पर्याप्त स्टडी मैटेरियल 12वीं का कोर्स ही है। इसलिए कोर्स को अच्छे से दोहराए और जितना हो सके NCERT की बुक्स पढ़ें।

तैयारी के लिए इन टिप्स को फॉलो करें-

  • इलेक्ट्रिसिटी-मैग्नेटिज्म टॉपिक के न्यूमेरिकल भाग की प्रैक्टिस करें।

  • पिछले 10 साल के क्वेश्चन पेपर ज्यादा से ज्यादा सॉल्व करें।

  • वीकली टारगेट सेट करें यानी 11वीं के पहले पढ़े चैप्टर्स जनवरी और 12वीं के फरवरी में रिवाइज करें।

  • प्लानिंग के साथ खुद को एनालाइज कर सब्जेक्ट वाइज अपनी तैयारी के स्टेटस के बारे में पता करें।

  • अपनी तैयारी के हिसाब से परीक्षा के सेशन का चुनाव करें और रिवीजन के लिए शॉर्ट नोट्स तैयार करें।

  • सुबह जल्दी उठने की आदत डालें और अपनी बायोलॉजिकल क्लॉक में सुधार लाएं।

  • स्ट्रेंथ और वीकनेस को पहचान कर उसे और मजबूत करने पर काम करें।

  • 9 से 12 और 2 से 5 बजे फिर से पढ़ने की आदत डालें, ताकि परीक्षा के समय फोकस रहे।

  • कई महीनों से घर में रहने के कारण सिटिंग की आदत छूट गई है, ऐसे में एक्सरसाइज करें।

यह भी पढ़ें-

एग्जाम का शेड्यूल जारी:IIT खड़गपुर तीन जुलाई को JEE एडवांस्ड कराएगा, इस बार भी 12वीं में 75% मार्क्स जरूरी नहीं

JEE मेंस 2021:पहली बार इंग्लिश के साथ हिंदी समेत 13 भाषाओं में होगी परीक्षा, निगेटिव मार्किंग भी हटाई गई

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


JEE Main 2021 Preparation tips| According to your preparation, choose the session of the exam, know from expert the benefits of the examination to be held in 4 session and the method of choosing the right session

More from Career & JobsMore posts in Career & Jobs »

Be First to Comment

    Thanks to being part of My Daily Bihar News .

    %d bloggers like this: